Latest News

National
States

Health

Technology

Sports

Entertainment

Recent Posts

Sunday, 22 January 2017

अभी-अभी: राष्ट्रपति बनने के दुसरे दिन ही ट्रम्प ने की सर्जिकल स्ट्राइक, ढेर किये 200 आतंकी.. पढ़ें पूरी खबर...

loading...
वाशिंगटन: इस्लामिक आतंकवाद को खत्म करने का नारा देकर राष्ट्रपति बने ट्रंप ने आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है।



ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के अगले दिन अमेरिकी एयरफोर्स ने बड़ी सर्जिकल स्ट्राक की है। यूएस के वॉर प्लेन्स ने सीरिया में अल कायदा के ट्रेनिंग कैम्प पर हमला किया, जिसमें 200 से ज्यादा आतंकी मारे गए। अमेरिकी डिफेंस डिपार्टमेंट के हेडक्वार्टर्स पेंटागन की तरफ से जारी बयान में यह जानकारी दी गई है।



न्यूज एजेंसी के मुताबिक, पेंटागन के स्पोक्सपर्सन नेवी कैप्टन जेफ डेविस ने रविवार को बताया कि हवाई हमले सीरिया के इदलिब प्रोविन्स में आतंकी संगठन अल कायदा के ट्रेनिंग कैम्प को टारगेट कर किए गए। शेख सुलेमान नाम से अल कायदा का यह ट्रेनिंग कैम्प 2013 से चलाया जा रहा था।



सीरिया में किए गए हवाई हमले में अमेरिका ने एक B-52 बमवर्षक और ड्रोन विमानों का इस्तेमाल किया। दावा किया गया है कि हमले में कोई भी लोकल सिटिजन नहीं मारा गया।

ट्रेनिंग कैम्प कट्टरपंथी इस्लामिक और सीरिया के अपोजिशन ग्रुप से अल कायदा में शामिल होने और इसके लिए लड़ाई लड़ने के लिए चलाया जा रहा था।
पेंटागन के मुताबिक, इससे एक दिन पहले लीबिया में भी कार्रवाई की गई थी, जिसमें आईएसआईएस के 80-90 आतंकी मारे गए थे।



हमले में अमेरिका ने B-2 स्टील्थ बॉम्बर्स और ड्रोन विमानों का इस्तेमाल किया था। लीबिया हमले को ओबामा ने मंजूरी दी थी। अभी ये क्लियर नहीं है कि सीरिया स्ट्राइक के लिए सीधे उनसे मंजूरी ली गई थी या नहीं।


पेंटागन के मुताबिक, इस साल 1 जनवरी से अब तक अल कायदा के 350 से ज्यादा आतंकी मारे जा चुके हैं।  इसमें अल कायदा का ऑपरेशन लीडर मोहम्मद हबीब बुसाडोन अल-तुनिसी भी शामिल है जो बीते मंगलवार को मारा गया था।

Saturday, 21 January 2017

BREAKING: अभी-अभी अमेरिका भी उतरा भारतीय हिन्दुओं के समर्थन में, कहा- भारत में हिन्दुओ पर हो रहा है हमला, हमें मिलकर हिन्दू धर्म को बचाना होगा.

loading...
अमरीकी मूल के आयुर्वेदाचार्य डॉ Davd frwoly ने भारत में हो रहे हिन्दुओ पर अत्याचार पर गहरा दुख और चिंता जताई है.

बता दें कि डॉ डेविड फ़्रॉली मूल रूप से अमरीकी है पर सनातन धर्म से प्रभावित होकर सनातनी हो चुके है.

डेविड फ़्रॉली ने कहा है कि, भारत में हिन्दू धर्म को ही ख़त्म कर देने की साजिश हो रही है और हिन्दुओ को अपने धर्म को बचाने के लिए जागना होगा क्योंकि मानव के कल्याण के लिए ये ही एकमात्र धर्म है बाकी अन्य तो मानवनिर्मित पंथ है.

डेविड फ़्रॉली ने कहा कि, हिन्दुओ पर हर तरफ से हमले हो रहे है, कभी उनके त्यौहारों पर हमला होता है, तो कभी हिन्दुओ के संस्कारों पर हमला होता है, सेक्युलर और बुद्धिजीवि तत्व हिन्दू धर्म को निशाने पर लिए हुए है.

साथ ही साथ ईसाई मिशनरी और इस्लामिक कट्टरपंथ का भी शिकार भारत में हिन्दू हो रहे है.


डॉ डेविड फ़्रॉली ने कहा कि, हिन्दू धर्म को बचाने के लिए बाहर से कोई नहीं जायेगा, हिन्दुओ को ही अपनी संस्कृति को बचाना होगा अन्यथा ये विलुप्त हो जायेगी.

.....

अभी-अभी: ट्रम्प ने दिया सेना को आदेश - जाओ खत्म कर दो आतंकवाद कि जड़ इस्लाम को...

loading...
कैपिटॉल में आयोजित एक शानदार समारोह में शपथ लेने के बाद 70 वर्षीय Donald Trump ने अपने जोशीले भाषण में धरती से कट्टर इस्लामिक आतंकवाद खत्म करने, अमेरिकियों की नौकरी वापस लाने और अपनी सीमा की सुरक्षा सुनिश्चित करने का वादा किया। 


इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार का मंत्र अमेरिका फर्स्टहोगा और वह शक्तियां वाशिंगटन डीसी से जनता तक पहुंचाएंगे।

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप आज अमेरिका के 45 वे राष्ट्रपति पद की शपथ ग्रहण करेगे, भारतीय समय अनुसार रात 10:00 बजे डोनाल्ड ट्रंप का शपथ ग्रहण समारोह आयोजित होगा।

70 वर्ष के डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के 45 वे राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे , राष्ट्रपति की 20 जनवरी को शपथ लेने की अमेरिका में 200 साल से भी ज्यादा पुरानी परंपरा है , ट्रंप का शपथ ग्रहण समारोह सबसे महंगा शपथ ग्रहण समारोह होगा जिसका बजट 1263 करो रुपए रखा गया है।

डोनाल्ड ट्रंप ने निर्णय लिया है कि उनकी शपथ ग्रहण समारोह में बाइबिल होगी, वेदमंत्र भी होंगे लेकिन मौलावी धर्मगुरु नहीं होंगे, क्योंकि उनकी जरुरत नहीं समझी गई।

शपथ ग्रहण समारोह की थीम ,,मेक अमीरका ग्रेट अगेन,, रखी गई है अमेरिका के मुख्य न्यायाधीश डोनाल्ड ट्रंप को शपथ दिलाएंगे ,ट्रंप दो बाइबिल से शपथ लेंगे, इनमें एक बाइबिल वह है जिससे अब्राहम लिंकन ने शपथ ली थी ,दूसरी बाइबिल ट्रम्प को बचपन में उनकी मां ने दी थी।

यह हर हिंदू के लिए गर्व की बात है की ट्रंप की प्रार्थना सभा में हिंदू पुजारी शामिल होंगे जो वेद मंत्र के उच्चारण के साथ ट्रम्प राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे।



चुनाव के समय ट्रंप ने अपना हिंदू प्रेम जाहिर किया था और मंदिरों में पूजा पाठ भी कराया था, और अब अपनी शपथ ग्रहण समारोह में भी हिंदू पुजारियों से वेद मंत्र का उच्चारण करवाने जा रहे हैं।

OMG! ट्रंप के राष्ट्रपति बनते ही उनकी पत्नी की न्यूड तस्वीरें वायरल, अकेले ही देखे...

loading...
अमेरिका के नए प्रेसिडेंट के तौर पर शुक्रवार रात Donald Trump ने शपथ ली। वहीं, उनकी तीसरी पत्नी मलेनिया अब अमेरिका की फर्स्ट लेडी बन गईं।


 मलेनिया पेशे से मॉडल रह चुकी हैं और यह पहला मौका होगा जब कोई फॉर्मर सुपरमॉडल फर्स्ट लेडी बनी है। इतना ही नहीं, मलेनिया पहली फर्स्ट लेडी हैं, जो अमेरिका से बाहर की हैं। ट्रम्प के इलेक्शन कैंपेन के दौरान मलेनिया ने महिलाओं के खिलाफ बेतुके कमेंट्स को लेकर पति के लिए माफी भी मांगी थी।


पेशे से लॉन्जरी मॉडल रह चुकी मलेनिया, डोनाल्ड ट्रम्प की तीसरी पत्नी हैं। वे ट्रम्प से 24 साल छोटी हैं। मलेनिया की ट्रम्प से पहली मुलाकात न्यूयॉर्क में साल 1998 में एक फैशन शो की पार्टी में हुई थी। इनके रिलेशिनशिप को 1999 में आए एक इंटरव्यू के बाद पब्लिसिटी मिलने लगी थी।  साल 2004 में दोनों की सगाई के साथ ही यह रिलेशनशिप सामने आया। इसके बाद 22 जनवरी 2005 में दोनों ने शादी कर ली। इनका 10 साल का एक बेटा भी है।

16 साल की उम्र में शुरू की थी मॉडनिंग

46 साल की मलेनिया की पैदाइश यूगोस्लाविया की है। उनकी मां भी फैशन बिजनेस में थीं। मलेनिया ने 16 साल की उम्र से ही मॉडनिंग करनी शुरू कर दी थी।


17 साल की उम्र में फोटोग्राफर स्टेन जर्को ने उन्हें नोटिस किया और फोटोशूट का ऑफर दिया। 18 साल की उम्र में उन्होंने इटैलियन मैगजीन के साथ कॉन्ट्रैक्ट साइन कर लिया था। ब्रिटिश GQ मैगजीन के फ्रंट पोज के लिए उन्होंने ट्रम्प के ही बोइंग 727 में न्यूड पोज दिया था। मिलेनिया अब ज्वैलरी बिजनेस चलाती हैं और अपना प्रोडक्ट शॉपिंग चैनल QVC पर बेचती हैं।


मलेनिया ने कहा था कि मेरे पति ने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया है वो आपत्तिजनक और अस्वीकार्य हैं। यह उस शख्स के शब्द नहीं है जिसे मैं जानती हूं। उन्होंने आगे कहा था, ‘ट्रम्प का दिल और दिमाग दोनों नेता बनने के लिए बेहतर है।


मैं उम्मीद करती हूं कि जनता उन्हें मेरी तरह माफ कर देगी। मैं जानती हूं कि ट्रम्प हमेशा उन मुद्दों पर ध्यान देंगे, जो अमेरिका के हित के लिए होगा।'

video:-

[India news]
Lifestyle